आतंकवाद पर निबंध

Terrorism Essay in Hindi आतंकवाद को हम इस तरह परिभाषित कर सकते है की आतंकवाद कुछ लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए हिंसा का प्रयोग करते है| यह युद्ध और निति से पूरी तरह अलग है| आतंकवाद कुछ वर्षों से बढ़ते ही जा रहा है और सबसे ज्यादा आतंकवाद से पीड़ित भारत है और इसका मुख्य कारण पाकिस्तान है| आतंकवाद के उपर  बच्चों को आमतौर पर हर कक्षाओं मे एस्से दिया  जाता है तो चलिए अब नीचे लिखे एस्से को पढ़ते है|

Terrorism Essay in Hindi 100 Words

आज आतंकवाद एक ऐसी वैश्विक समस्या का रुप धारण कर चुका है, जिसकी आग में सारा विश्व जल रहा है| आज कोई भी देश यह दावा नहीं कर सकता कि उसकी सुरक्षा व्यवस्था में कोई कमी नहीं है और वह आतंकवाद से पूरी तरह मुक्त है| सच तो यह है कि आज यह कोई नहीं जानता कि आतंकवाद का अगला निशाना कौन और किस रूप में होगा| हिंसा के द्वारा जनमानस में भय या आतंकवाद पैदा कर उद्देश्यों को पूरा करना ही आतंकवाद कहलाता है| यह उद्देश्य राजनीतिक, धार्मिक या आर्थिक ही नहीं, सामाजिक या अन्य किसी प्रकार का भी हो सकता है|

आतंकवाद पर निबंध - Terrorism Essay in Hindi Language
आतंकवाद पर निबंध – Terrorism Essay in Hindi Language

Terrorism Essay in Hindi 200 Words

वैसे तो आतंकवाद के कई प्रकार है, किंतु इन में से तीन ऐसे हैं जिनसे पूरी दुनिया त्रस्त है राजनीतिक आतंकवाद, धार्मिक कट्टरता, एवं गैर-राजनीतिक या समाजिक आतंकवाद| श्रीलंका में लिट्टे समर्थकों एवं अफगानिस्तान में तालिबान संगठनों की गतिविधियां राजनीतिक आतंकवाद के उदाहरण है|

जम्मू कश्मीर में अलगाववादी गुटों द्वारा किए गए अपराधिक कृत्य भी राजनीतिक आतंकवाद के ही उदाहरण है| अल-कायदा, लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठन धार्मिक कट्टरता की भावना से अपराधिक कृत्यों को अंजाम देते है| ऐसे आतंकवाद को धार्मिक कट्टरता की श्रेणी में रखा जाता है| अपनी सामाजिक स्थिति या अन्य कारणों से उत्पन्न समाजिक क्रांतिकारी विद्रोह को गैर-राजनीतिक श्रेणी में रखा जाता है| भारत में नक्सलवाद गैर-राजनीतिक आतंकवाद का उदाहरण है|

आतंकवादी हमेशा आतंक फैलाने के नए-नए तरीके आजमाते रहते हैं| भीड़ भरे स्थानों, रेल बसों इत्यादि में बम विस्फोटक करना, रेलवे दुर्घटना करवाने के लिए रेलवे लाइनों की पटरियां उखाड़ देना, वायुयानों का अपहरण कर लेना निर्दोष लोगों या राजनीतिज्ञों को बंदी बना लेना, बैंक डकैती करना इत्यादि कुछ ऐसी आतंकवादी गतिविधियां हैं जिनमें पूरा विश्व पिछले कुछ दशकों से त्रस्त हैं| आज लगभग पूरा विश्व आतंकवाद की चपेट में है और किसी न किसी तरह से पीड़ित है |

Terrorism Essay in Hindi 300 Words

पिछले एक दशक में पूरे विश्व में आतंकवादी घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है| 11 सितंबर 2001 को अमेरिका के न्यूयॉर्क स्थित वर्ल्ड ट्रेड सेंटर और 26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुआ आतंकी हमला आतंकवाद के बढ़ते प्रभाव को दर्शाता है| वैसे तो आज लगभग पूरा विश्व ही आतंकवाद की चपेट में है किंतु भारत दुनियाभर में आतंकवाद से सार्वधिक त्रस्त देशों में से एक है| इसका प्रमुख कारण भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान है| भारत और पाकिस्तान में आरंभ से ही जम्मू कश्मीर राज्य विवाद का मुद्दा रहा और दोनों ही देश इस पर अपना अधिकार करना चाहते हैं| पाकिस्तान कश्मीर को हथियाने के लिए अब तक 3 बड़े युद्ध कर चुका है और आए दिन सीमा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन करता रहता है, लेकिन अभी तक उसके हाथ असफलता ही लगी है इसलिए उसने भारत को आंतरिक रुप से नुकसान पहुंचाने के लिए आतंकवाद का सहारा लेना शुरू कर दिया है|

जम्मू कश्मीर में आतंकवाद की समस्या के समाधान के लिए भारत सरकार को कड़े कदम उठाने होंगे और पाकिस्तानी घुसपैठ को रोकते हुए इस राज्य पर अपनी प्रशासनिक पकड़ मजबूत करनी होगी तथा आवश्यकता पड़ने पर पाकिस्तानी से द्विपक्षीय वार्ता के अतिरिक्त उसे प्रति कठोर कदम उठाने के लिए भी तैयार रहना होगा| इसका नतीजा यह निकला है कि यदा-कदा भारत आतंकी हमलों का निशाना बनता रहता है| 12 मार्च 1993 को मुंबई में हुए श्रृंखलाबद्ध बम विस्फोट, 13 दिसंबर 2001 को संसद भवन पर हुआ हमला, 7 मार्च 2006 को हुआ  वाराणसी बम धमाका, 26 जुलाई 2008 को अहमदाबाद में हुआ बम विस्फोटक, 26 नवंबर 2008 को मुंबई के ताज होटल पर हमला आदि कुछ ऐसी घटनाएं हैं जो भारत को आतंकवाद पीड़ित देश घोषित करती है| इन बड़ी घटनाओं के अतिरिक्त आतंकवादी भारत में अनेक छोटी मोटी घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं|

Terrorism Essay in Hindi Aatankwad Ki Samasya
आतंकवाद पर निबंध – Terrorism Essay in Hindi (Aatankwad Ki Samasya)

Terrorism Essay in Hindi 400 Words

भारत में नक्सलवाद भी अब आतंकवाद का रूप ले चुका है| पहले नक्सलवाद का उद्येश्य अपने वास्तविक हक की लड़ाई थी किंतु अब यह बहुत ही हिंसक विद्रोह के रूप में देश के लिए एक गंभीर समस्या एवं चुनौती बन चुका है| प्रारंभ में यह विद्रोह पश्चिम बंगाल तक सीमित था किंतु धीरे-धीरे यह है उड़ीसा, बिहार, झारखंड, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र एवं छत्तीसगढ़ क्षेत्रों में भी फैलता गया| वैसे तो आतंकवाद के प्रमुख कारण राजनीतिक स्वार्थ, सत्ता एवं धार्मिक कट्टरता है किंतु नक्सलवाद जैसे विद्रोही गतिविधियों के सामाजिक कारण भी हैं जिनमें बेरोजगारी एवं गरीबी प्रमुख है विश्व के अधिकतर आतंकवादी संगठन युवाओं की गरीबी एवं बेरोजगारी का लाभ उठा कर ही उन्हें आतंकवाद के अंधे कुएं में कूदने के लिए उकसाने में सफल रहते हैं और बेरोजगार युवा इस काम को करने के लिए तैयार भी हो जाते हैं|

आतंकवाद के संदर्भ में सार्वधिक बुरी बात यह है कि कोई नहीं जानता कि आतंकवादियों का अगला निशाना कौन होगा? इसलिए आतंकवाद नेआज लोगों के जीवन को असुरक्षित बना दिया है और यह मानव जाति के लिए कलंक बन चुका है| आतंकवाद की समस्या का सही समाधान यही हो सकता है कि जिन कारणों से इसमें निरंतर वृद्धि हो रही है हमें उन्हें दूर करना चाहिए| भारत में कुछ इलाकों में लोग अपने हक के लिए भी नक्सलवाद का सहारा लेते हैं ऐसे इलाकों की पहचान करके उन्हें उन का अधिकार प्रदान कराना अधिक आवश्यक होगा ताकि वह आतंकवाद से दूर रहें|

पाकिस्तान कश्मीर को अपना राज्य बनाने के लिए आतंकवाद को बढ़ावा देता है और वह पाकिस्तान में आतंकवादियों को ट्रेनिंग भी देता है ताकि भारत में हमला करते रहे हाल ही में पाकिस्तान के आतंकवादियों ने पठानकोट में हमला किया, उरी अटैक किया, नगरोटा अटैक, कभी बारामुला अटैक किया वह अपनी गतिविधियों को अंजाम देते ही रहता है ताकि किसी भी तरह वह कश्मीर को भारत से लग कर दें| पाकिस्तान ने इन सारी घटनाओं को अंजाम दिया फिर भारत के प्रधानमंत्री ने इसका जवाब दिया और पाकिस्तान में एक सर्जिकल स्ट्राइक कर दी| सर्जिकल स्ट्राइक करने के बावजूद भी पाकिस्तान अब भी आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है और कश्मीर को भारत से अलग करने की सोचता रहता है|

आतंकवाद की समस्या के समाधान के लिए पूरे विश्व को मिलकर एक व्यापक रणनीति बनानी होगी| आतंकवाद आज वैश्विक समस्या का रूप ले चुका है इसलिए इसका संपूर्ण समाधान अंतर्राष्ट्रीय सहयोग एवं प्रयासों से ही संभव हो पाएगा| इसमें संयुक्त राष्ट्रीय संघ, इंटरपोल एवं अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय को भी अपना महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी और आतंकवाद की समस्या को हमें जड़ से खत्म करना होगा|

Note :- अगर आपको हमारा द्वारा लिखा हुआ Terrorism Essay in Hindi मे एस्से पसंद आया तो इसको आप जरूर शेयर करे ताकि और लोगो की भी हेल्प हो जाये जो Terrorism Essay in Hindi का एस्से ढूंढ रहे हो|

यँहा संबंधित निबंध पढ़ें :-

  1. आरक्षण नीति पर निबंध
  2. सांप्रदायिकता पर निबंध
  3. महिला आरक्षण विधेयक पर निबंध
  4. कन्या-भ्रूण हत्या पर निबंध
  5. बेरोजगारी की समस्या पर निबंध
  6. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here